Translate This Website In Any Language

कंप्यूटर का खोज किसने किया और कब किया? कंप्‍यूटर का इतिहस क्‍या हैं?

कंप्यूटर का खोज (आविष्कार) किसने किया और कब किया?

Computer ka avishkar kisne kiya


इस लेख में हम लोग कंप्यूटर का अविष्कार कब हुआ था Computer ka avishkar kisne kiya  कंप्यूटर का जनक किसे कहा जाता हैं Computer भारत में कब आया कंप्यूटर के अविष्कारक के बारे में पूरी जानकारी प्राप्‍त करने वाले हैं। इसलिए इस लेख को पूरा अंत तक जरूर पढ़ें. कंप्यूटर वर्तमान समय में हम लोगों के डेली वर्क का एक महत्वपूर्ण जरिया बन गया हैं आज बहुत सारे काम हम लोग कंप्यूटर से आसानी से घर पर बैठे कर लेते हैं. आज के समय में कंप्यूटर का इस्तेमाल पूरी दुनिया में किया जाता है। कंप्यूटर आज हमारे जीवन की दैनिक जरूरत बन चुका है। लोग अपने हर छोटे कामों को करने के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल करते है। जबसे कंप्यूटर का आविष्कार हुआ है तब से मनो पूरी दुनिया बदल गई है। आज कंप्यूटर आपको चाहे सरकारी बैंक हो या फिर Private Office हर जगह देखने को मिल ही जायेगा कंप्यूटर में आप अपना किसी भी टाइप का डाटा स्टोर कर सकते है। इन्टरनेट से अलग अलग जानकारी हासिल कर सकते है। कंप्यूटर ने हमारे जीवन को आसान बना दिया है बड़ी से बड़ी प्रॉब्लम मिनट में हल कर सकते है। कंप्यूटर एक ऐसी डिवाइस है जो हार्डवेयर और सॉफ्टवेर दो चीजो से चलता है। आप भी कंप्यूटर का इस्तेमाल करते होंगे पर क्या आपने कभी सोचा है कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया? आइए जानते हैं कि कंप्यूटर का खोज (आविष्कार) किसने किया और कब किया?


Computer ka avishkar kisne kiya

कंप्यूटर क्या हैं?

Computer एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस हैं कंप्यूटर एक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक मशीन हैं जिसे हम कोई भी इनपुट देते हैं तो  वह हमारे सवालों का जवाब आउटपुट से देता हैं। Computer शब्द लेटिन शब्द से लिया गया है। जिसका मतलब होता है गणना करना मतलब की शुरू में जिन Computer का आविष्कार किया गया था वह सिर्फ गणना करने तक ही सीमित थे जिस कारण Computer को हिंदी में संगणक कहाँ जाता है।


कोई भी खबर हो या दुनिया में किसी भी चीज के बारे में अगर हम लोग को जानना हैं तो कंप्यूटर से बहुत आसानी से हम लोग जान सकते हैं. जब कंप्यूटर बना तब एक कमरे के जितना बड़ा बना था लेकिन समय के साथ उसमें कई तरह के अविष्कार होते हुए आजकल छोटा से छोटा कंप्यूटर भी उपलब्ध हैं। अगर हम चाहे तो कहीं बाहर भी लेकर आसानी से आ जा सकते हैं उसे लैपटॉप कहते हैं।



कंप्‍यूटर का इतिहस क्‍या हैं?

Computer के पिता चार्ल्स बैबेज को कहा जाता हैं चार्ल्स बैबेज ही कंप्यूटर के जनक माने जाते हैं चार्ल्स बैबेज एक मैथमेटिक्स के बहुत बड़े जानकार थे चार्ल्स को शुरू से कंप्यूटर और गणित के विषय से अधिक रुचि था इसीलिए उन्होंने कंप्यूटर के अविष्कार के बारे में सोचा।



यह एक simple calculator से ज्यादा था. वहीँ ये capable था बहुत सारे sets के numbers को एक साथ compute करने में और ये अंत में उत्तर hard copies में प्रदान करता था.


Ada Lovelace ने भी Charles Babbage की मदद करी इस difference engine को develop करने में. ये polynomial equations को compute कर सकता था और वहीँ mathematical tables को भी automatically print कर सकने में सक्षम था.


इसके उपरांत सन 1837 में, Charles Babbage ने पहला general mechanical computer की description सोची, जो की आगे चलकर Difference Engine का successor होने वाला था और जिसका नाम उन्होंने analytical engine सोचा था, लेकिन ये कभी भी पूर्ण नहीं हो सका जब Babbage जीवित थे.


इसे program किया जाने वाला था integrated memory और punch cards के मदद से.


बाद में सन 1991 में , Henry Babbage, जो की Charles Babbage के सबसे छोटे बेटे थे उन्होंने इस machine का एक हिस्सा पूर्ण किया जो की प्राय सभी basic calculations कर पाने में सक्षम था.



कम्प्यूटर के प्रकार

आपको बता दे कंप्यूटर कई प्रकार के होते हैं। अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग प्रकार के कंप्यूटर का इस्तेमाल होता है। कंप्यूटर में ऑपरेटिंग सिस्टम भी कई प्रकार के होते हैं लेकिन जो मुख्य रूप से ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल होता है वह है Window, Mac और Linux आमतौर पर हमारे घरों में जो कंप्यूटर होता है उसमे Window इस्तेमाल होता है। कंप्यूटर के कई प्रकार के अनुसार ही इनके कार्य करने की क्षमता भी अलग-अलग होती है। और कंप्यूटर में मौजूद इन पार्ट्स को किसी एक व्यक्ति ने नहीं बल्कि अलग-अलग व्यक्तियों द्वारा मिलकर बनाया है। इसलिए कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया है, इसका सीधा जवाब देना थोड़ा कठिन हो जाता है। आइए जानते हैं कि Computer Ka Avishkar Kisne Kiya?





कंप्यूटर का अविष्कार कब हुआ

1822 में चार्ल्स बैबेज ने सबसे पहले कंप्यूटर का खोज किया इन्होंने सबसे पहले सिस्टम पावर ऑटोमेटिक मशीन कैलकुलेटर बनाया इससे  कैलकुलेट करने के लिए बनाया गया था लेकिन 1833 में चार्ल्स बैबेज ने सबसे पहला कंप्यूटर बनाया जो कि जनरल मशीन कंप्यूटर था.


वही कंप्यूटर आगे चलकर एक बेहतर कंप्यूटर बना. आज हमलोग कंप्‍यूटर का इस्‍तेमाल जो कर रहे हैं उसका श्रेय चार्ल्‍स बेबेज को ही जाता हैं.



कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया?

Computer ka avishkar kisne kiya

Computer का अविष्कार चार्ल्स बैबेज ने किया था चार्ल्स बैबेज को कंप्यूटर का जनक कहा जाता हैं चार्ल्स बैबेज ने सबसे पहले प्रोग्रामेबल कंप्यूटर का डिजाइन बनाया था इस कंप्यूटर का उन्होंने डिफरेंशियल इंजन नाम रखा था लेकिन कुछ कारणवश यह पूरा नहीं हो पाया कुछ दिनों बाद इलेक्ट्रो मैकेनिकल कंप्यूटर बनाया गया.


जिसको टारपीडो कंप्यूटर कहा गया फिर Konrad Zuse ने एक कंप्यूटर बनाया यह कंप्यूटर सबसे पहला ऐसा कंप्यूटर था जो कि इलेक्ट्रॉनिकल था इसके बाद कई तरह के कंप्यूटर का अविष्कार हुआ. भले ही कंप्यूटर समय के साथ कई तरह के बनते आ रहे हैं.


लेकिन सबसे पहले जिसने कंप्यूटर बनाने के बारे में सोचा वह चार्ल्स बैबेज ही थे इसीलिए उन्हें कंप्यूटर का जनक कहा जाता है. चार्ल्स बैबेज को कंप्यूटर के पिता के रूप में भी हम लोग जानते हैं.


“कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था” इस सवाल का कोई सीधा साधा जवाब नहीं है क्यूंकि Computer किसी एक single machine को नहीं दर्शाता है बल्कि ये बहुत से अलग अलग प्रकार के यांत्रिक हिस्सों का एक समाहार है.


वहीँ इन हिस्सों को अलग अलग लोगों ने अलग अलग समय में आविष्कार किया है. इसलिए इस सवाल का उत्तर computer के classification पर निर्भर करता है.


आप सभी को पता होगा कंप्यूटर क्या है. सलिए आज के इस article “सबसे पहले कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था” में हम इस सवाल को पूरी गहराई से जानने वाले हैं. उम्मीद है हमारी ये कोशिश आपको जरुर से पसदं आएगी. तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं.


कंप्यूटर का अविष्कार 19 century में Charles Babbage नमक एक प्रसिद्ध Mathematics professor ने किया था. इसलिए उन्हें Father of Computer भी कहा जाता है.


उन्होंने एक Analytical Engine (first mechanical computer) की design करी थी जो की successor था Difference Engine (automatic mechanical calculator) का और इसे ही आज के modern computers का basic framework माना जाता है.


इन्हें Generations में classify कर दिया गया और प्रत्येक generation अपने पूर्व generation से ज्यादा improved और modified version था.


वहीँ सन 1822 में, British mathematician और inventor Charles Babbage (1791-1871) ने पहला steam-powered automatic mechanical calculator बनाया जिसे की उन्होंने “Difference Engine” या “Differential Engine” का नाम दिया.




Electronic Digital Computer का आविष्कार किसने किया?

सन 1937 में दुनिया का सबसे पहला Electronic Digital Computer Dr.John V. Atanasoff और Clifford Berry के द्वारा आविष्कार किया गया था। उन्होंने इसका नाम Atanasoff-Berry Computer (ABC) रखा था।



पहला इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था और कब?

Electronic Computer का आविष्कार किसने किया था?

दुनिया के सबसे पहले इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर का अविष्कार सन 1945 में John Vincent Atanasoff, J. Presper Eckert, एवं John Mauchly ने किया। इसे बनाने और डिजाइन करने का पूरा खर्च US मिलिट्री के द्वारा वहन किया गया था। ENIAC (Electronic Numerical Integrator and Computer) का आविष्कार उन्होंने university of Pennsylvania में किया था। ये कंप्यूटर लगभग 1800 वर्ग फिट में फेल हुआ था। 200 किलोवाट की इलेक्ट्रिक पावर, लगभग 70000 राजिस्टर्स, 10000 कैपेसिटर ओर 18000 वेक्यूम ट्यूब लगे हुए थे।


John Vincent Atanasoff ने दुनिया का सबसे पहला इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर का आविष्कार किया था. सन 1945 में J. Presper Eckert और John Mauchly ने ENIAC (Electronic Numerical Integrator and Computer) का आविष्कार किया था. इसे उन्होंने university of Pennsylvania में किया था.

वहीँ इसके design और construction का पूरा खर्च US Military द्वारा किया गया था.


ये करीब 1800 square feet में फैला हुआ था, 200 kilowatts की electric power, इसमें लगभग 70,000 resistors, 10,000 capacitors और 18,000 vacuum tubes का इस्तमाल किया गया था और इसकी वजन करीब 50 tones की थी.



जहाँ कईयों का मानना है की ABC computer वो पहला digital computer था लेकिन बहुत से लोग ENIAC को ही पहला digital computer मानते हैं.


ऐसा इसलिए क्यूंकि ये वो पहला operational electronic digital computer. वहीँ इसका इस्तमाल weather prediction, atomic-energy calculations, thermal ignition, और दुसरे scientific uses में किया जाता था.



पहला Programmable Computer का आविष्कार किसने किया था और कहाँ?

सन 1938 में German Civil Engineer, Konrad Zuse ने दुनिया का पहला Freely Programmable binary driven mechanical computer का आविष्कार किया था। उन्होंने इसका नाम Z1 रखा था। Konrad Zuse को बहुत लोग Modern Computer का जनक भी मानते हैं।



सन 1938 में, German civil engineer, Konrad Zuse ने दुनिया का पहला freely programmable binary driven mechanical computer का आविष्कार किया था.


उन्होंने इसका नाम Z1 रखा था. Konrad Zuse को बहुत लोग modern computer का जनक भी मानते हैं. इस computer को programmable किया जाता था via punched tape या punched tape reader.


Z1 का असली नाम था “V1” for VersuchsModell 1, लेकिन World War 2 के बाद इसे rename कर दिया गया “Z1”. इसमें करीब 1000 kg weight की पतली metal sheets का इस्तमाल होता है वो भी 20000 parts के साथ.




पहला Commercial Computer का आविष्कार किसने किया था?

दुनिया का सबसे पहला Commercial Computer का आविष्कार 1951 में हुआ था जिसका नाम UNIVAC रखा गया। यूनीवैक का पूरा नाम “यूनिवर्सल ऑटोमेटेड कंप्यूटर” था। Commercial कंप्यूटर्स को Industrial Computers भी कहा जाता है। ये पहला Commercial Computer था जो की दोनों numerical और alphabetic को manage कर सकने में सक्षम था। इसे भी J. Presper Eckert और John Mauchly, के द्वारा Design किया गया था।



सन 1951 में, दुनिया का सबसे पहला Commercial Computer का आविष्कार हुआ था , इसका नाम रखा गया UNIVAC I (Universal Automatic Computer I). ये वो पहला commercial computer था जो की दोनों numerical और alphabetic को manage कर सकने में सक्षम था.


इसे भी J. Presper Eckert और John Mauchly, के द्वारा design किया गया था जो की ENIAC के आविष्कारक थे.


इसमें vacuum tube का इस्तमाल हुआ था, वहीँ limited speed की memory computer और जिसे US military द्वारा इस्तमाल किया जाता था.


इसकी input और storage के लिए magnetic tape या एक magnetic drum का इस्तमाल किया जाता था.



कब पहला Personal Computer का आविष्कार हुआ था?

Personal Computer का आविष्कार किसने किया?

Personal Computer को सन 1975 में Introduce किया गया था। Ed Robert ने ही इसका नाम सबसे पहले “Personal Computer” और PC दुनिया के सामने appear हुआ 3 November 1962 में जब Altair 8800 को introduce किया गया।


सबसे पहला personal computer को सन 1975 में introduce किया गया था. Ed Robert ने ही इसका नाम सबसे पहले “personal computer” और PC दुनिया के सामने appear हुआ 3 November 1962 में जब Altair 8800 को introduce किया गया.


वरना पहले के computers को microcomputers कहा जाता था.



Personal Desktop Computer का आविष्कार किसने किया?

पूरी दुनिया में सबसे पहला Desktop Personal कंप्यूटर Italian Company Olivetti ने 1964 में बनाया था। उन्होंने इसकी कीमत $3,200 रखी थी। जो की आज के हिसाब से लगभग 2 लाख रूपए है। सन 1985 में Atari Corporationने 520ST कंप्यूटर बनाया। ये एक 32 बिट का रंगीन कंप्यूटर था और इसमें 256 Kb RAM थी और 3 1⁄2-Inch की एक Floppy Disks थी जो की स्टोरज का काम करती थी।



लैपटॉप का आविष्कार किसने किया?

पहला लैपटॉप

Laptop एक बहुत ही बड़ा आविष्कार था. इसी laptop का आविष्कार Adam Osborne ने सन 1981 में किया था.


पहला laptop का नाम रखा गया “Osborne 1” जो की इसके आविष्कारक के नाम पर रखा गया. उस समय इसकी कीमत लगभग $1500 थी. इसमें इसकी ही बहुत सी program pre-installed थी और साथ में एक छोटी computer screen भी बनी हुई थी इसपर.


इसे “Osborne computers” द्वारा invent किया गया था.


ये पहला portable computer बहुत ही बड़ा success था, जहाँ comapany की sales करीब 10,000 per month हो रही थी. उस समय के हिसाब से ये बहुत ही ज्यादा था.


Laptop का आविष्कार Adam Osborne ने सन 1981 में किया था। पहला laptop का नाम रखा गया “Osborne 1” जो की इसके आविष्कारक के नाम पर रखा गया। उस समय इसकी कीमत लगभग $1500 थी। इसमें इसकी ही बहुत सी Program Pre-Installed थी और साथ में एक छोटी Computer Screen भी बनी हुई थी।



सुपर कंप्यूटर का आविष्कार कब हुआ?

Super Computer उन Computers को कहा जाता है जिनकी काम करने की क्षमता बहुत ही High Level पर और बहुत तेज होती है। इन Computer में से हजारों Processors होते हैं जिससे कि इसकी काम करने की Speed सबसे Highest और Fastest होती है। Super Computers को खासतौर पर Scientific या फिर Engineering Field के काम करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। आमतौर पर इन Computer का इस्तेमाल घर या Office में नहीं किया जाता।


इन Computer को Specially Science के Field में मुश्किल से मुश्किल Problems को Solve करने के लिए Design किया गया है। Super Computer को सबसे पहले 1960 में Seymour Roger Cray द्वारा Introduce किया गया था। इस Supercomputer का नाम CDC 6600 था। इस कंप्यूटर को Control Data Corporation और Cray Research में Invent किया गया था। Seymour Cray ने 1920 से ही इस कंप्यूटर की Design के लिए काम करना शुरू की कर दिया था, जिसमें Sperry Rand भी उनके साथ थे।



भारत में Computer कब बना?

भारत में कंप्यूटर का आविष्कार कब हुआ

सन 1966 में भारत की दो संस्थाओं भारतीय सांख्यिकी संस्थान तथा जादवपुर यूनिवर्सिटी द्वारा मिलकर भारत के अन्दर पहला कंप्यूटर बनाया इसका नाम ISIJU रखा गया। HEC–2M तथा ISIJU में एक अंतर था URAL HEC – 2M तथा URAL दोनों ही वैक्यूम ट्यूब युक्त कंप्यूटर थे जबकि ISIJU एक ट्रांजिस्टर युक्त कंप्यूटर था।


अभी तक जितने भी कंप्यूटर बने थे सभी दूसरे देशों से खरीदा गया था भारत में एक भी नही बना था लेकिन सन ,1966 में भारत की दो संस्थाओं भारतीय सांख्यिकी संस्थान तथा जादवपुर यूनिवर्सिटी द्वारा मिलकर भारत के अन्दर पहला कंप्यूटर बनाया इसका नाम ISIJU रखा गया.


HEC – 2M तथा ISIJU में एक अंतर था URAL HEC – 2M तथा URAL दोनों ही वैक्यूम ट्यूब युक्त कंप्यूटर थे जबकि ISIJU एक ट्रांजिस्टर युक्त कंप्यूटर था. और इसके बाद तो भारत में ही कंप्यूटर बनने लगे.


भारत में स्वदेशी ज्ञान कौसल से Computer का आविष्कार सन 1966 में हुआ. इस computer का नाम रखा गया “ISIJU”.



पहला कंप्यूटर भारत में कब और कहाँ लगाया गया

भारत का पहला कंप्यूटर कहां स्थापित किया गया था?

भारत में सबसे पहले कंप्यूटर सन 1952 में Dr.Dwijish Dutta द्वारा कोलकाता में भारतीय विज्ञान संस्थान के अन्दर लाया गया था। यह एक एनालोंग कंप्यूटर (Analog Computer) था। सन 1956 में कोलकाता भारतीय विज्ञान संस्थान के अन्दर डिजिटल कंप्यूटर HEC – 2M लगाया था यह भारत का पहला इलेक्ट्रोनिक कंप्यूटर था। फिर सन 1958 में “URAL” नामक का एक कंप्यूटर भारतीय सांख्यिकी संस्थान कोलकाता में लगाया गया जो आकार में HEC – 2 M से भी बड़ा था इस कंप्यूटर को रूस से खरीदा गया था और सन, 1964 में इन दोनों कंप्यूटर का इस्तेमाल बंद कर दिया। क्योकि उस समय IBM ने अपना पहला कंप्यूटर IBM 1401 भारतीय सांख्यिकी संस्थान कोलकाता में लगाया, जो IBM 1400 सीरीज का पहला कंप्यूटर था जो एक डाटा प्रोसेसिंग सिस्टम कंप्यूटर था।


India ने अपने लिए पहला computer सन 1956 में ख़रीदा, इसकी कीमत करीब Rs 10 lakh की थी. इसका नाम था HEC-2M और इसे Calcutta के Indian Statistical Institute में स्थापित किया गया था.


ये एक बड़ी सी number crunching machine से ज्यादा और कुछ भी नहीं था. इसकी 10 ft की लम्बाई, 7 ft की चौड़ाई और 6 ft की height थी.


ये उस समय बड़ी ही critical role निभाया annual और five-year plans को formulate करने में planning commission के द्वारा, और साथ में भारत के top-secret nuclear projects में भी.


यह भारत का पहला First Generation Computer था. साथ में भारत में computer development की भी इसने नीवं रख दी थी.



भारत का पहला कंप्यूटर का नाम

भारत का पहला कंप्यूटर HEC – 2M

भारत में सबसे पहले कंप्यूटर सन 1952 में Dr.Dwijish Dutta द्वारा कोलकाता में भारतीय विज्ञान संस्थान के अन्दर लाया गया था.


यह एक एनालोंग कंप्यूटर (Analog Computer) था. उसके बाद बेंगलूर में भारतीय विज्ञान संस्थान में एक एनालोग कंप्यूटर लगाया गया था.


लेकिन भारत में वास्तव में कंप्यूटर युग की शुरुआत तो हुई सन 1956 में हुई जब कोलकाता भारतीय विज्ञान संस्थान के अन्दर डिजिटल कंप्यूटर HEC – 2M लगाया था यह भारत का पहला इलेक्ट्रोनिक कंप्यूटर था.


इस कंप्यूटर के आने के बाद भारत, जापान के बाद एशिया का दूसरा ऐसा देश बन गया था जो की अब कंप्यूटर टेक्नोलॉजी का इस्तमाल कर रहा था.


फिर सन 1958 में “URAL” नामक का एक कंप्यूटर भारतीय सांख्यिकी संस्थान कोलकाता में लगाया गया जो आकार में HEC – 2 M से भी बड़ा था इस कंप्यूटर को रूस से खरीदा गया था और सन, 1964 में इन दोनों कंप्यूटर का इस्तेमाल बंद कर दिया.


क्योकि उस समय IBM ने अपना पहला कंप्यूटर IBM 1401 भारतीय सांख्यिकी संस्थान कोलकाता में लगाया, जो IBM 1400 सीरीज का पहला कंप्यूटर था जो एक डाटा प्रोसेसिंग सिस्टम कंप्यूटर था जिसे IBM ने सन 1959 में बनाया था.



भारत का पहला Super Computer कौन सा है और किसने बनाया?

भारत का पहला सुपर कंप्यूटर ‘PARAM 8000” था। PARAM का Full Form है “Parallel Machine” । इस Computer को सन 1991 में Centre for Development of Advanced Computing (C-DAC) के द्वारा develop किया गया था। इसमें Architect Vijay P.Bhatkar का बहुत बड़ा योगदान था। उन्होंने PARAM 8000 को सन 1991 में और PARAM 10000 को सन 1998 में बनाया था।


भारत का पहला सुपर कंप्यूटर PARAM 8000

भारत का पहला सुपर कंप्यूटर ‘PARAM 8000” था. PARAM का Full Form है “Parallel Machine”. इस Computer को develop किया गया था Centre for Development of Advanced Computing (C-DAC) के द्वारा सन 1991 में. इसमें Architect Vijay P.Bhatkar का बहुत बड़ा योगदान था.


उन्होंने PARAM 8000 को सन 1991 में और PARAM 10000 को सन 1998 में बनाया था.


इस PARAM 8000 की rating थी करीब 1 Gigaflop (billion floating point operations per second). सभी chips और दुसरे elements जिनका इस्तमाल PARAM को बनाने के लिए किया गया उन्हें open domestic market से ही ख़रीदा गया था.


इस PARAM Supercomputer के कुछ major application भी थे जैसे की long-range weather forecasting, remote sensing, drug design और molecular modeling.



Company Name के अनुसार पहले computer के नाम

Commodore:

सन 1977 में, Commodore ने अपना पहला computer introduce किया, जिसका नाम रखा “Commodore PET“.


Compaq:

March 1983 में, Compaq ने अपना पहला computer introduce किया, जो की 100% IBM compatible computer, इसका नाम रखा गया “Compaq Portable“.


Dell:

सन 1985 में, Dell ने अपना पहला computer introduce किया “Turbo PC“.


Hewlett Packard:

सन 1966 में, Hewlett Packard ने अपना पहला general computer, release किया जिसका नाम रखा “HP-2115“.


NEC:

सन 1958 में, NEC ने अपना पहला computer build किया, जिसका नाम रखा “NEAC 1101“.


Toshiba:

सन 1954 में, Toshiba ने अपना पहला computer introduce किया, जिसका नाम था “TAC” digital computer.



Note: वहीँ सन 1837 में, Charles Babbage ने पहला general mechanical computer, propose किया जिसका नाम रखा Analytical Engine.


इस Analytical Engine में एक ALU (Arithmetic Logic Unit), basic flow control, punch cards (जो की inspired थे Jacquard Loom से), और integrated memory को स्थान दिया गया था.


ये वो पहला general-purpose computer concept था. लेकिन दुर्भाग्य की बात है Funding issues के चलते, इस computer को Charles Babbage के जीवित अवस्था में नहीं बनाया जा सका.




कंप्यूटर के आविष्कार से सम्बंधित FAQ

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था।

कंप्यूटर का आविष्कार Charles Babbage ने किया था।


Electronic Computer का आविष्कार किसने किया था?

Electronic Computer का अविष्कार सन 1945 में John Vincent Atanasoff, J. Presper Eckert, एवं John Mauchly ने किया था।


भारत में कंप्यूटर का आविष्कार कब हुआ

सन 1966 में भारत की दो संस्थाओं भारतीय सांख्यिकी संस्थान तथा जादवपुर यूनिवर्सिटी द्वारा मिलकर भारत के अन्दर पहला कंप्यूटर बनाया इसका नाम ISIJU रखा गया।


लैपटॉप का आविष्कार किसने किया?

Laptop का आविष्कार Adam Osborne ने सन 1981 में किया था।



कंप्यूटर का आविष्कार किस सन में हुआ था?

सबसे पहला mechanical computer को सन 1822 में Charles Babbage द्वारा आविष्कार किया गया था, लेकिन ये अभी के computer जैसा बिलकुल भी नहीं दिखता था.



Computer ka avishkar kisne kiya

सारांश(Conclusion)

Computer ka avishkar kisne kiya – इस लेख में हमने कंप्यूटर का किसने किया कंप्यूटर कब बना कंप्यूटर भारत में कब आया कंप्यूटर क्या हैं कंप्यूटर के अविष्कारक किसने किया के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की हैं आप लोगों को इस लेख से जुड़े कोई सवाल हैं तो कमेंट करके जरूर पूछें.


इस लेख कंप्यूटर के अविष्कारक किसने किया के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है आप लोगों को यह कंप्यूटर का किसने किया के बारे में जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और शेयर भी जरूर करें.


तो अब आप जान गए होंगे कि Computer Ka Avishkar Kisne Kiya कंप्यूटर का आविष्कार Charles Babbage ने किया था। इन्हें कंप्यूटर का जनक कहा जाता है। सन 1966 में भारत की दो संस्थाओं भारतीय सांख्यिकी संस्थान तथा जादवपुर यूनिवर्सिटी द्वारा मिलकर भारत के अन्दर पहला कंप्यूटर बनाया इसका नाम ISIJU रखा गया।


मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख Computer का आविष्कार किसने किया जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को Computer के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे.

 

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. यदि आपको यह post Computer का आविष्कार किसने किया पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर share कीजिये।


Post a Comment

0 Comments