Translate This Website In Any Language

Tailoring Business Ideas : कपड़े की सिलाई का बिज़नेस कैसे शुरू करें

How to start a sewing business

कपड़े की सिलाई का व्यवसाय शुरू कर हजारों रूपये प्रतिमाह कमाने का मौका प्राप्त करें


टेलरिंग व्यवसाय, मशीन, कोर्स, जॉब (Tailoring Business Ideas, Material, Plan, Proposal, Names, Loan, Machinery, Cost, Profit Margin, Earning in Hindi)


अगर फैशन की बात करें तो आज के लोग अपने पहनावे, अपने स्टाइल और अपने फैशन से पहचाने जाते हैं। आज के समय में अगर आपको हर तरह के रंग और आकर्षक कपड़े कहीं भी देखने को मिल जाएंगे तो वह है हमारा भारत देश। जो फैशन के मामले में कलरफुल और वैरायटी से भरपूर है। आज के समय में भारतीय बाजारों में डिजाइनर कपड़ों और फैशन की मांग इतनी बढ़ गई है कि प्रतिस्पर्धा भी दिन-ब-दिन बढ़ती ही जा रही है। ऐसे में अगर आपने सिलाई-कढ़ाई का बिजनेस शुरू करने का मन बना लिया है या बनाना चाहते हैं तो हमारी यह पोस्ट (कपड़े की सिलाई का बिज़नेस कैसे शुरू करें) पढ़ें और इसे फॉलो करें।


Tailoring Business Ideas 2023


जब तक इस धरती पर मनुष्य जाति रहेगी, तब तक लोग लिबास यानी कपड़े पहनते रहेंगे। इस तरह से कहा जा सकता है कि कपड़ो का बिजनेस सदा चलने वाला है। कपड़ो की मांग सदैव बनी रहेगी। जब कपड़ो की मांग रहेगी तो स्वभाविक तौर से कपड़े बनाने वाले लोगों की जरुरत होगी। टेलरिंग का बिजनेस यहीं से आता है।


टेलरिंग का बिजनेस वह होता है, जिसमें भांति – भांति प्रकार के कपड़े तैयार किया जाता है। अगर कोई व्यक्ति रेडिमेड कपड़ा भी पहनता है तो, उस कपड़े की की कही सिलाई की जाती है। तभी वह पूर्ण परिधान तैयार होकर मार्केट में आता है।


टेलरिंग का बिजनेस करना एक बेहद फायदा वाला बिजनेस है। इस बिजनेस को कम लागत में शुरु करके बेहतर मुनाफा कमाया जा सकता है। आइए आज आपको इस आर्टीकल में टेलरिंग बिजनेस के बारें में जानकारी देते हैं।



सिलाई व्यवसाय में स्कोप (Tailoring Business Scope)

आप जानते ही होंगे कि महिलाओं को कपड़े पहनने का कितना ज्यादा शौक होता है और उन्हें अगर हर रोज एक नई ड्रेस मिल जाए पहनने को तब तो वे बहुत खुश हो जाती हैं. ऐसे में एक छोटा सा कोई भी फंक्शन अगर घर में हो तो महिलाओं के लिए तो नए कपड़े खरीदने का एक मौका होता है. कुछ महिलाएं डिजाइनर कपड़े बनवाकर पहनना पसंद करती हैं तो कुछ रेडीमेड स्टोर में बेचे जाने वाले बने बनाए कपड़े खरीदना पसंद करती हैं. इसका सीधा और सरल शब्द यह है कि कपड़ों को लेकर बाजार में व्यवसाय करना कितना ज्यादा फायदेमंद हो सकता है. यदि इस व्यवसाय के बारे में सोचा जाए या फिर आरंभ करा जाए तो इस व्यवसाय में आपको आराम से बाजार में बहुत अच्छी शुरुआत मिल सकती है. इस व्यवसाय में निपुण होना बेहद आवश्यक है क्योंकि यदि आप निपुण नहीं होंगे तो आपके पास इतनी आसानी से कोई भी महिला कपड़े सिलवाने या खरीदने नहीं आएगी. क्योंकि महिलाओं को नए कपड़ों के साथ एक नया फैशन और नया डिजाइन हमेशा ही चाहिए होता है. ऐसे में यदि आप उन्हें संतुष्ट नहीं कर पाएंगे तो आपके लिए इस व्यवसाय को आसानी से चला पाना मुश्किल होगा.



टेलरिंग का बिजनेस कैसे शुरु हो सकता है?

किसी भी बिजनेस को शुरु करने के दौरान कुछ तैयारियां करना जरुरी होता है। टेलरिंग का बिजनेस इससे अपवाद नहीं है। टेलरिंग का बिजनेस शुरु करने के लिए भी कुछ तैयारियां करना होता है। निम्नलिखित तैयारी करना होता है:


  • एक दूकान का इंतजाम करना (बड़ा कमरा या हाल) मार्केट में हो तो बेहतर

  • एक साइन बोर्ड बनवाना

  • कम से कम 5 बड़ी आलमारी बनवाना

  • 20 बड़े हैंगर बनवाना

  • एक काउंटर तैयार करवाना

  • आवश्यकतानुसार सिलाई मशीन, रफू मशीन और कैंची रखना

  • कपड़े सिलने के लिए अलग – अलग रंग के धागे रखना





सिलाई व्यवसाय को शुरू करने की योजना बनाएं (Tailoring Bussiness Plan)

अब आप यह तो जानते हैं कि जिस काम की शुरुआत उचित तरीके से और सही योजना बनाकर की जाती है, उसमें लाभ कमाना कोई मुश्किल काम नहीं होता है. ऐसे में यदि आप दर्जी का व्यवसाय आरंभ करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एक सुव्यवस्थित योजना बनाने की बहुत ज्यादा आवश्यकता है. जिसे आप हमारे द्वारा बताए गए निम्नलिखित तरीकों से कर सकते हैं तो चलिए आरंभ करते हैं योजना के प्रमुख चरणों से –


प्रशिक्षण और शिक्षा :- सिलाई कढ़ाई जैसे काम सिर्फ एक व्यवसाय नहीं बल्कि कला होते हैं. और इस कला में पारंगत होने के लिए आपको एक सही प्रशिक्षण और उचित शिक्षा की आवश्यकता होती है. ऐसे में सबसे पहले यह जरूरी है कि आप एक ऐसा मार्ग दर्शक चुने जो इस काम में पूरी तरह से पारंगत हो और सिलाई कढ़ाई की कलाकारी के बारे में बखूबी जानता हो. आप चाहे तो सिलाई कढ़ाई की विभिन्न नई तकनीकों को ऑनलाइन भी सीख सकते हैं जिसके लिए आपको गूगल पर कई सारी ऑनलाइन साइट्स मिल जाएंगी. और यूट्यूब वीडियोस मिल जायेंगे, क्योंकि आजकल बहुत से लोग यूट्यूब चैनल पर वीडियोस बनाकर अपलोड करते हैं और पैसे भी कमाते हैं.


व्यवसाय से जुड़ी आवश्यकताओं की सूची बनाएं और लिखें :- किसी भी व्यवसाय में काफी सारी चीजों की जरूरत होती है ऐसे में यदि आपको उनके बारे में जानकारी नहीं होगी तो आप अपने व्यवसाय को एक सुव्यवस्थित ढांचा प्रदान नहीं कर पाएंगे. तो इसलिए व्यवसाय आरंभ करने के लिए सबसे पहले आप अपने व्यवसाय से जुड़ी सभी जानकारियां अपने आसपास के बाजार से एकत्रित अवश्य कर लें. उन सभी आवश्यकताओं से जुड़ी सूची बनाएं और उन्हें सुव्यवस्थित ढंग से कार्यरत करें.


पंजीकरण :- जब आप अपने व्यवसाय से जुड़ी सभी आवश्यकताओं को प्राप्त कर लेते हैं तो उसके बाद आपको अपने व्यवसाय को पंजीकृत कराना बेहद आवश्यक है. एक पंजीकृत व्यवसाय होने का आप यह लाभ उठा सकते हैं कि आपके फैशन, स्टाइल और तकनीक को कोई भी चुरा नहीं सकता उस पर केवल आपका ही कॉपीराइट रहेगा. यदि आप अकेले ही इस व्यवसाय को आरंभ करना चाहते हैं तो आपको एकल व्यवसाय के लिए पंजीकरण करना होगा और इसके अतिरिक्त यदि आप अपने किसी दोस्त या सगे संबंधी को पार्टनर के रूप में अपने साथ इस व्यवसाय में जोड़ना चाहते हैं तो आपको एक साझेदारी कंपनी के लिए पंजीकरण भरना होता है.


दुकान की स्थापना :- अब आपको एक दर्जी का व्यवसाय चलाने के लिए एक स्थान की भी आवश्यकता होगी ऐसे में आप चाहे तो अपने घर में भी इस व्यवसाय को चला सकते हैं या फिर एक दुकान किराए पर लेकर उसमें भी इस व्यवसाय को आरंभ कर सकते हैं. यदि आप किराए पर दुकान ले रहे हैं तो ध्यान रखें कि उसके लिए आप किराया समझौता अवश्य बनवा लें. ताकि आप लंबे समय तक उस दुकान पर बने रहें और अपना व्यवसाय सुचारू रूप से चलाते रहें. दुकान को उसी तरह से डिजाइन कराएं जिस तरह से एक कपड़ा डिजाइनर की दुकान होनी चाहिए. इसके अतिरिक्त आपको कच्चा माल रखने के लिए अधिक जगह टेबलेट, हैंगर आदि जैसी चीजों की भी आवश्यकता होगी.


आवश्यक उपकरण और कच्चे माल की खरीद :- आपको अपने  इस व्यवसाय को आरंभ करने के लिए किन वस्तुओं की आवश्यकता होगी उसकी लिस्ट आपको पहले से तैयार कर लेनी चाहिए ताकि जब आप सामान खरीदने बाजार जाए तो कुछ भी चीज छूट ना जाए. इस व्यवसाय को आरंभ करने के लिए आपको मशीन, अलग-अलग रंगों के और अलग-अलग तरीके के कपड़े एवं धागे, कैची, इंच टेप, सैंपल कपड़ों के विभिन्न प्रकार, प्रिंटिंग, सिलाई का सामान, पैटर्न और भी कई प्रकार की वस्तुएं खरीदनी होंगी.


मूल्य सूची बनाएं :- ग्राहकों के सामने प्रस्तुत करने के लिए आपकी खुद की एक मूल्य सूची होनी आवश्यक है. यदि आप ग्राहकों को अपनी ओर ज्यादा आकर्षित करना चाहते हैं तो आपके लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप बाजार के मूल्यों का आंकलन करने के बाद बाजार के अनुसारया फिर उससे कम ही मूल्य रखें, ताकि ग्राहक आपकी ओर ज्यादा आकर्षित हो सकें.



सिलाई व्यवसाय के प्रकार (Tailoring Business Types)

मुख्य रूप से सिलाई व्यवसाय को दो भागों में वर्गीकृत किया जाता है जिनमें से एक सिलाई और वैकल्पिक व्यवसाय है और दूसरा सिलाई और डिजाइनिंग व्यवसाय –


सिलाई और वैकल्पिक व्यवसाय :- यह एक ऐसा व्यवसाय होता है जिसमें आप घर बैठकर अपने जीवनभर के लिए आमदनी जुटा सकते हैं. इसके अंतर्गत आप सिलाई कढ़ाई का प्रशिक्षण लेकर घर पर ही मशीनों के द्वारा कपड़ों को काट काट कर के नए कपड़े बना सकते हैं और अपने आसपास के लोगों को अपनी सेवा प्रदान कर सकते हैं.


सिलाई और डिजाइनिंग व्यवसाय :- इस प्रक्रिया के अंतर्गत कुछ प्रोफेशनल डिजाइनर कपड़ों को नए-नए रूप में डिजाइन करते हैं और इंटरनेशनल लेवल पर भी बेचते हैं. उनकी बड़ी-बड़ी कंपनीज होती है और उनका खुद का एक अलग नाम होता है वे पूरी तरह से प्रशिक्षण लेकर खुद को तैयार करते हैं और बड़े बड़े ब्रांड के नाम पर नए-नए डिजाइन तैयार करते हैं. 



सिलाई व्यवसाय के लिए सही स्थान (Tailoring Business Right Location)

सिलाई व्यवसाय आरंभ करने के लिए आपको एक सही स्थान का चयन करना बेहद आवश्यक है क्योंकि यदि आपका व्यवसाय सही स्थान पर नहीं होगा तो आपको उपभोक्ता भी नहीं मिल पाएंगे. आपको एक ऐसा मुख्य बाजार या आवासीय स्थान के बीच में एक ऐसा क्षेत्र खोजना होगा जहां पर आपको आसानी से उपभोक्ता मिल सकें. इसके अतिरिक्त यदि आप किसी कार्यालय के आसपास इस व्यवसाय को आरंभ करेंगे तो वहां पर आपको उपभोक्ता मिलने में परेशानी हो सकती है.



सिलाई व्यवसाय के लिए ज्ञान और कौशल की आवश्यकता (Tailoring Business Required Skills)

वैसे तो प्रत्येक व्यवसाय को आरंभ करते समय उचित ज्ञान और कौशल की आवश्यकता होती है ऐसे ही सिलाई के व्यवसाय में भी कुछ बुनियादी कौशल की आवश्यकता होती है जो निम्नलिखित है:-


  • सबसे पहले इस व्यवसाय में यदि आप दर्जी बनना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एक नॉर्मल सिलाई मशीन चलानी आनी चाहिए.

  • कपड़ों की कटिंग किस तरह से की जाती है और किस तरह से उन्हें नए-नए आकारों में बदलकर नए डिज़ाइन तैयार किए जाते हैं इन सभी बातों से जुड़ी जानकारी भी आपको एकत्रित करनी चाहिए.

  • किसी उपभोक्ता का माप लेना सबसे महत्वपूर्ण कार्य इस व्यवसाय में माना जाता है. एक संपूर्ण रूप से प्रशिक्षित दर्जी वही होता है जो एक उपभोक्ता के शरीर का सही माप लेना जानता हो. यदि वह माप सही तरीके से लेगा तो कोई भी कपड़ा बनाने के लिए उसे ज्यादा परेशानी नहीं होगी और वह एक सही फिटिंग के साथ एक नई डिजाइनर ड्रेस बना पाएगा.

  • नए-नए पेटर्न्स को देखकर उन्हें सीखना एक डिजाइनर का काम होता है ताकि वह उपभोक्ताओं को हर बार एक नया डिजाइन प्रस्तुत कर सके.

  • कपड़े के किस भाग को किस तरीके से काटना है इस बात की जानकारी भी एक सिलाई मास्टर को होनी आवश्यक है.

  • किस तरह का कपड़ा किस तरह से रखकर कटिंग किया जाता है और किस तरह से उसे बनाया जाता है. इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरी यह है कि उसे कपड़ों के प्रकार की जानकारी होनी चाहिए और किस कपड़े का क्या गुण होता है इस बारे में भी विस्तृत जानकारी एक दर्जी के पास होनी आवश्यक है.

  • किस उपभोक्ता को किस तरह की फिटिंग ज्यादा पसंद है और एक कपड़े पर किस तरह की फिटिंग होनी चाहिए, यदि इस बात की जानकारी एक दर्जी को नहीं होती है तो वह कोई भी ड्रेस को खूबसूरत नहीं बना सकता है.

  • सिलाई के व्यवसाय में किसी भी दर्जी को 3 महीने से लेकर 6 महीने तक का पूरा कोर्स करना आवश्यक है क्योंकि इस व्यवसाय में निपुणता के साथ-साथ कलाकारी होनी भी आवश्यक है और जितनी अधिक प्रेक्टिस आप इस व्यवसाय में करेंगे उतने और अधिक निपुण आप धीरे-धीरे होते रहेंगे.

  • इसके अतिरिक्त यदि आप एक मालिक के रूप में इस व्यवसाय को करना चाहते हैं और सिलाई कटिंग का काम करने के लिए एक सहायक रखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको सिलाई सीखने की आवश्यकता है.



सिलाई व्यवसाय को आरंभ करने के लिए आवश्यक मशीनरी एवं उपकरण (Tailoring Business Required Machinery and Equipment)

सिलाई व्यवसाय को आरंभ करने के लिए मशीन और मेज के अलावा भी कुछ अलग उपकरण खरीदने आवश्यक होते हैं जो निम्नलिखित हैं:-


  • सिलाई व्यवसाय में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली चीज होती है सिलाई मशीन, इसके बिना आप सिलाई व्यवसाय कभी शुरू नहीं कर पाएंगे. 

  • इसके बाद आपको कपड़ों की कटिंग के लिए कपड़ों पर निशान लगाने के लिए चौक की आवश्यकता पड़ेगी. बाजार में विभिन्न रंगों में चौक उपलब्ध होती है जो कपड़ों के लिए ही बनाई गई है.

  • कपड़ा मापने के लिए आपको इंच टेप भी खरीदना होगा.

  • नई नई डिजाइन बनाने और तैयार करने के लिए आपको पैटर्न पेपर की भी आवश्यकता पड़ेगी.

  • तुरपाई और छोटे-मोटे कपड़ों को जोड़ने के लिए आपको विभिन्न प्रकार की सुइयां की भी आवश्यकता होती है. वह भी कई प्रकार की आती हैं जिन्हें देख परख कर ही आप बाजार से ले.

  • कुछ अलग प्रकार के औजारों की आवश्यकता भी आपको पड़ेगी जिसमें हेमिंग और पिकोट जिनकी सहायता से आप विशेष दबाव की सिलाई कपड़ों पर लगा सकते हैं.

  • विभिन्न प्रकार के धागे और उनको रखने के लिए एक सुव्यवस्थित रूप से बना हुआ डिब्बा उसकी आवश्यकता भी आपको होगी ताकि धागे एक दूसरे मे मिलकर उलझ ना जाएं.

  • आपको दुकान में कुछ डिजाइनर कपड़े लगाने व अपने बनाए हुए डिजाइन लगाने के लिए हैंगर की भी आवश्यकता पड़ेगी.

  • कपड़े व कच्चे माल को सही तरीके से रखने के लिए आपको स्टैंड और रैक भी अपनी दुकान में रखने होंगे.

  • कपड़े की कटिंग करने से पहले उसको इस्री के पूरी तरह से ठीक करना होता है ताकि कपडा काटते समय वह टेड़ा मेडा ना कटे और कपड़े को सिलाई करने के बाद उसे इस्री करके सुंदर बनाकर ही उपभोक्ता को दिया जाता है. जिसके लिए आपको इलेक्ट्रिक डिवाइस की भी आवश्यकता अपनी दुकान में होगी.



सिलाई व्यवसाय के लिए नाम चुने (Choose Name for Tailoring Business)

एक आकर्षक नाम व्यवसाय की ओर उपभोक्ताओं को खींच लाता है. इसी प्रकार यदि आप अपने सिलाई व्यवसाय का नाम एक आकर्षक ढंग से चुनेंगे, तो आपको अधिक फायदा होने की संभावना है. ऐसे में आप अपने व्यवसाय के लिए एक ऐसा सरल और आकर्षित नाम चुने जिसे सुनने और पहचानने में वक्त ना लगे. एक सही नाम आपको एक सही पहचान दिलाने में सहायक होता है इसलिए अपने व्यवसाय के लिए एक उचित नाम चुनना आपके लिए अति आवश्यक है.



सिलाई व्यवसाय चलाने के लिए आवश्यक एंप्लॉय (Tailoring Business Required Employee)

यदि आप इस व्यवसाय को मात्र एक निदेशक के रूप में आरंभ करना चाहते हैं तो इस व्यवसाय की थोड़ी सी जानकारी भी आपके लिए बहुत है. और आप चाहते हैं कि आप अपने इस व्यवसाय को चलाने के लिए एक एंप्लॉय भी रखें, तो उसके लिए आपको एक प्रशिक्षित व्यक्ति की आवश्यकता पड़ेगी जो आपके व्यवसाय में आपको पूरा सहयोग कर सकें. ध्यान रखें कि वह व्यक्ति पूरी तरह से प्रशिक्षित और कलाकार होना चाहिए, जो नए-नए प्रकार के डिजाइन बना सके और इसके जरिए आने वाले उपभोक्ताओं को संतुष्ट और प्रसन्न कर सके.



सामान्य सिलाई व्यवसाय में रेट का निर्धारण (Rates in Common Tailoring Business)

यदि बात की जाए कपड़े सिलाई के बदले दिए जाने वाले कीमत की तो उसके बारे में तो महिलाओं को बहुत अच्छे से पता होता है. मुख्य रूप से महिलाएं सिलाई की कीमत नहीं सिलाई के डिज़ाइन को महत्व देती है, परंतु ऐसे में कुछ जगह पर कीमत को भी देखा जाता है. यदि बात करें एक साधारण रेट लिस्ट की तो किसी आम जगह पर सिम्पल सूट और ब्लाउज सिलवाने के लिए ₹300 का भुगतान करते हैं. इसके अतिरिक्त यदि उनमें किसी अलग प्रकार का डिजाइन डलवाया जाता है तो उसके लिए डिजाइन के अनुसार पैसों का भुगतान किया जाता है. अतः आप इन्हीं के अनुसार रेट का निर्धारण कर सकते हैं.



सिलाई व्यवसाय की मार्केटिंग (Tailoring Business Marketing)

बाजार में प्रत्येक व्यवसाय के लिए सैंकड़ों प्रतियोगी मौजूद हैं ऐसे में आपको कुछ ऐसे और साधारण तरीके अपनाने होंगे ताकि आप अपने व्यवसाय की ओर ग्राहकों को अधिक आकर्षित कर सके.


  • जैसा कि आप देख ही रहे हैं कि आजकल ऑनलाइन मार्केटिंग का दौर चल पड़ा है ऐसे में यदि आप अपने व्यवसाय को सोशल मीडिया और कुछ अन्य ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए लाएंगे और उपभोक्ताओं तक पहुंचाएंगे तो आपकी ओर आकर्षित होते हुए बहुत सारे ग्राहक आपकी तरफ आएंगे.

  • महिलाओं के बारे में तो आप जानते ही हैं उन्हें जिस भी चीज पर छूट प्राप्त होती है तो वे जल्द ही उसको खरीद लेती हैं. ऐसे में आपके लिए बेहद जरूरी हो जाता है कि आप अपने व्यवसाय का प्रमोशन करते वक्त उन्हें उनकी पहली खरीद पर या अपनी पहली सेवा पर कुछ डिस्काउंट जरूर दें, ताकि वह आपकी तरफ आकर्षित हो और आपके एक परमानेंट ग्राहक बन जाए.

  • किसी भी कलाकार की पहचान उसकी कलाकारी होती है ऐसे में यदि आप अपने ग्राहकों को हर दिन एक नया सुझाव देने के लिए प्रस्तुत रहेंगे, तो अपने आप आपकी तरफ कई सारे ग्राहक आकर्षित होंगे. और एक ग्राहक जब आपके काम से संतुष्ट होगा, तो वह अपने आप ही आपके पास दूसरे ग्राहक को भी लेकर आएगा. ऐसे में आपकी मार्केटिंग और ज्यादा बढ़ जाती है और आपकी मांग दिन प्रतिदिन बढ़ने लगती है.



टेलरिंग का बिजनेस शुरु करने में कुल कितनी लागत आती है

यह बिजनेस कम निवेश, अधिक मुनाफा वाला बिजनेस है। इसको कौशल युक्त कारोबार भी कहते हैं। टेलरिंग का बिजनेस शुरु करने में जो मुख्य खर्च आता है, वह ऊपर दर्ज तैयारियों पर ही आता है। अगर हम सभी खर्च को एक – एक करके देखें तोः


  • दुकान का किराया – 5000/- प्रति माह

  • साइन बोर्ड – 5000/- एक बार

  • 5 बड़ी आलमारी – 5000*5= 25000/- एक बार

  • 20 बड़े हैंगर 500*20= 20000/- एक बार

  • सिलाई मशीन – 25000/- एक बार

  • रफू मशीन – 5000/- एक बार

  • कैंची – 1000/- एक बार

  • धागा – 1000/- जरुरत के अनुसार


इस तरह हम देखें तो मार्केट में एक पेशेवर तरिके से टेलरिंग शॉप खोलने में 90 हजार से एक लाख रुपये के बीच खर्च आता है। हालांकि यह खर्च और कम हो सकता है, अगर सामान को सेकेंड हैंड में खरीदा जाय। फिर जब बिजनेस चल जाय और इनकम आना शुरु हो जाय तो बिजनेस लोन के सहयोग से बिजनेस का विस्तार भी बहुत आसानी के साथ किया जा सकता है।



टेलरिंग के बिजनेस में कुल कितना कमाई होती है?

किसी भी बिजनेस के बारें में पूरी जानकारी प्राप्त कर लेने के बाद यह जानकारी न मिले कि अमुख बिजनेस में कितना लाभ होता है, तो सभी जानकारी अधूरी लगती है। तो अब बात कर लेते हैं कि टेलरिंग के बिजनेस में कुल कितने तक कमाई हो सकती है।


मार्केट में इस वक्त एक शर्ट और पैंट सिलने का खर्च 750 रुपये लगता है। एक ब्लाउज सिलने का खर्च 400 रुपये होता है। मेंस शूट की सिलाई 4000 से 9000 रुपये के बीच है। इस हिसाब से सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है कि टेलरिंग के बिजनेस में कितना इनकम हो सकती है। कोई टेलर एक दिन में दो सेट भी पैंट शर्ट सिल दिया तो 1500 रुपये बन गया। इसी हिसाब से एक महीने का 45000 रुपये हो गया। अगर सभी खर्च निकाल भी दें तो 30000 रुपया महीने की बचत कहीं नहीं गई है। वहीं अगर बिजनेस पर किसी और टेलर को रखकर काम कराया जाय तो मुनाफा डबल हो सकता है।



टेलरिंग बिजनेस के लिए कुछ महत्वपूर्ण बात

इस बिजनेस की यह खास बात है कि इसे छोटे और बड़े दोनों स्केल पर शुरु किया जा सकता है। व्यक्ति चाहें तो छोटे स्तर से टेलरिंग का बिजनेस शुरु करके कुछ समय बाद बिजनेस लोन की साहायता से बिजनेस का विस्तार भी कर सकते हैं। इसी के साथ बिजनेस का ब्रांच भी किसी अन्य लोकेशन पर खोल सकते हैं।

टेलरिंग के बिजनेस में कुछ महत्वपूर्ण बातों का पालन अनिवार्य रुप से करना चाहिए:


  • ग्राहक से कभी झूठ नहीं बोलना चाहिए

  • तय समय पर कपड़ो की डिलीवरी देना चाहिए

  • जरुरत होने पर कई टेलर काम पर रखना चाहिए

  • बिजनेस की मार्केटिंग जरुर करना चाहिए


ग्राहक से कभी झूठ नहीं बोलना चाहिए

टेलरिंग का बिजनेस ऐसा बिजनेस है, जिसमे सीधे ग्राहक से भेट होती है। अगर कुछ अच्छा हुआ तो ग्राहक खुश होता है। लेकिन, ग्राहक के मनमुताबिक कपड़ा तैयार नहीं होने पर ग्राहक नाराज भी होता है। जब ग्राहक नाराज होता है तो वह कई लोग से शिकायत बताता है। इस तरह बिजनेस के खिलाफ हवा बनती है।

इसलिए, टेलरिंग के बिजनेस में यह अनिवार्य शर्त है कि ग्राहक से झूठ न बोला जाय। अगर ग्राहक की कोई मांग हो, लेकिन उस मांग को पूरा करने में आप असमर्थ हो तो साफ तौर से ग्राहक से बता देना उचित होता है। ऐसा करने से ग्राहक कहीं और जाकर कपड़े सिलवा सकता है।


तय समय पर कपड़ो की डिलीवरी देना चाहिए

90 और 2000 के दौर में रेडिमेड कपड़ो का डिमांड अचानक से बढ़ गई। अधिकतर लोग रेडिमेड कपड़े पहनने लगे। लेकिन, 2002 के बाद से सिलाये कपड़ो का मार्केट फिर से लौट आया। इसका सबसे बड़ा कारण था कि लोग अपने हिसाब की फीटिंग के कपड़े पहनना पसंद करने लगे।

ऐसे में टेलरिंग के कारोबारियों के ऊपर इस बात का दबाव आ गया कि कपड़ो की डिलीवरी तय समय पर कर कर सकें। शादी – विवाह के सीजन में यह बात का पालन और अधिक कड़ाई से किया जाता है। इसलिए ग्राहक से कपड़े लेते वक्त इस बात की क्लियरिटी जरुर कर लें कि कब तक कपड़ो की डिलीवरी दे सकने में आप सक्षम हैं।


जरुरत होने पर कई टेलर काम पर रखना चाहिए

टेलरिंग के बिजनेस में यह सुविधा होती है कि काम बढ़ने पर कारीगर बढ़ाया जा सकता है। इसलिए कुछ टेलरों से संपर्क बनाये रखें। ताकि जब काम बढ़े तो कारिगरों को लगाकर काम का निपटारा तय समय के भीतर आसानी के साथ किया जा सके।


बिजनेस की मार्केटिंग जरुर करना चाहिए

अगर टेलरिंग का बिजनेस बड़े लेवल पर करना है तो बिजनेस की मार्केटिंग करना अनिवार्य होता है। आपको यह जानकर खुशी होगी कि टेलरिंग का ही एकमात्र ऐसा बिजनेस है, जिसमें मार्केटिंग करते वक्त भी मुनाफा होता है।


टेलरिंग के बिजनेस का मार्केटिंग करने का सबसे सही तरीका स्कूल, कॉलेज और आगंनवाड़ी में कैम्प करके कपड़े सीलने का तरीका है। इसको ऐसा किया जा सकता है कि स्कूल की ड्रेस पर कुछ छूट दी जा सकती है या महीलाओं के तीन कपड़ो की सिलाई पर एक कपड़े की सिलाई फ्री की जा सकती है। इससे बिजनेस तो बढ़ेगा ही साथ ही ग्राहको की संख्या में भी बढ़ोतरी होगी।



CONCLUSION

हमें उम्मीद है की आपको हमारे इस आर्टिकल (कपड़े की सिलाई का बिज़नेस कैसे शुरू करें) से कपड़े की सिलाई के बिज़नेस के बारे में काफी जानकारी मिली होगी



People also ask

Q : क्या सिलाई व्यवसाय लाभदायक है?

Ans : जी हां, सिलाई व्यवसाय बहुत ज्यादा लाभदायक है क्योंकि इस व्यवसाय में लागत भी कम है और लाभ कमाने के अवसर बहुत ज्यादा अधिक हैं.


Q : क्या सिलाई व्यवसाय आरंभ करने के लिए लाइसेंस और पंजीकरण की आवश्यकता होती है?

Ans : यदि आप अपने घर पर ही सिलाई व्यवसाय आरंभ करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको किसी प्रकार के लाइसेंस व पंजीकरण की आवश्यकता नहीं होती है. परंतु यदि आप यदि आप एक प्रोफेशनल डिजाइनर बनना चाहते हैं तो उसके लिए आपको पंजीकरण कराना ही फायदेमंद होगा.


Q : क्या रेडीमेड कपड़े सिलाई कराने से ज्यादा सस्ते पड़ते हैं?

Ans : यदि बात की जाए रेडीमेड कपड़ों की तो वे पहले से ही बड़े-बड़े डिजाइनर द्वारा डिजाइन किये जाते हैं जो उनके डिजाइन के अनुसार ही लागत मूल्य पर बेचे जाते है. परंतु यदि आप एक डिजाइनर ड्रेस बनवाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको पहले अपने पसंदीदा कपड़े को खरीदना होगा जिसके लिए आपको निर्धारित मूल्य चुकाना होता है उसके बाद आप जिस प्रकार का डिजाइन बनवाना चाहते हैं उसके अनुसार आपको कीमत का भुगतान करना होता है. इसलिए यदि बात करें कपड़े की सिलाई की कीमत की तो वह एक डिजाइनर ड्रेस बनाने के लिए आपको ज्यादा देनी होगी बजाय इसके कि आप एक रेडीमेड बनी हुई डिजाइनर ड्रेस खरीद लें. किन्तु कई बार आपको जो चाहिए रेडीमेड कपड़ों में नहीं मिलता है तो ऐसे में आपको सिलाई करवाना ज्यादा अच्छा विकल्प हो सकता है. इसलिए यह कहना मुश्किल है कि रेडीमेड कपड़े सिलाई करने से ज्यादा सस्ते पड़ते है या नहीं. 


Q : क्या सिलाई सीखना बहुत मुश्किल काम है?

Ans : वैसे तो कोई भी काम सीखना ज्यादा मुश्किल काम नहीं होता है बस किसी भी काम को सीखने के लिए आपको ज्यादा से ज्यादा प्रैक्टिस और धैर्य की आवश्यकता होती है. ठीक इसी प्रकार यदि आप धैर्य के साथ सिलाई सीखते हैं तो आप बहुत जल्दी और आसानी से सिलाई सीख पाते हैं.


Q : क्या सिलाई का व्यवसाय एक अच्छा धन कमाने का जरिया बन सकता है?

Ans : सिलाई के व्यवसाय को यदि एक प्रोफेशनल दर्जी द्वारा आरंभ किया जाता है तो वह एक अच्छा धन कमाने का जरिया उसके लिए बन सकता है. वहीं यदि आप निवेशक के रूप में इस व्यवसाय को आरंभ करना चाहते हैं तो यह अति आवश्यक है कि आपके पास सिलाई व्यवसाय का संपूर्ण ज्ञाता एंपलॉयर के तौर पर होना चाहिए ताकि वह आपके व्यवसाय को लाभ की चरम सीमा तक पहुंचा सके.


Q : घर बैठे सिलाई का काम मिलेगा क्या?

घर बैठे सिलाई का काम कैसे करे?


Ans : आपको बता दे सिलाई के काम को पुरुष और महिला दोनों ही कर सकते है। घर बैठकर सिलाई काम करने के लिए आप अपने घर के बाहर या चौराहे पर बोर्ड या बैनर लगवा सकते है जिससे लोगो को आपके सिलाई काम के बारे में जानकारी मिल सके और आपको ज्यादा से ज्यादा काम या सिलाई आर्डर मिल सके।


Q : घर बैठे सिलाई से पैसे कैसे कमाए?

Ans : अगर आपने सिलाई का कोर्स अभी अभी पूरा किया और अब आप सीधे काम करके पैसे कमाना चाहते हैं तो आप महीने के 15,000 से 20,000 रूपए आसानी से कमा सकते हैं. अगर आप एक प्रोफेशनल टेलर हैं या फिर आपको 2 से 3 सालों का सिलाई काम का अनुभव है तो आप ghar baithe silai ka kam करके 25,000 से 50,000 रूपए कमा सकते हैं.


Q : सिलाई में क्या क्या सामान लगता है?

Ans : सात ज़रूरी सामान जिसे सिलाई के वक़्त अपने साथ रखें।

  • टेप –

  • ट्रेसिंग व्हील-

  • पेंसिल –

  • कैंची/रोटरी कटर –

  • 18″ का सी-थ्रू रूलर –

  • मापने का टेप-


Q : सिलाई में अपना करियर कैसे बनाएं?

Ans : टेलरिंग बिज़नेस के लिए आवश्यक योग्यता :

  1. आपको कपड़े की कटिंग व सिलाई आनी चाहिए

  2. यदि आपको लगता है कि आप फ़िनिशिंग वर्क नहीं कर पाती हैं तो आप कोर्स कर सकती हैं।

  3. यदि आप कोर्स करना चाहते हैं तो कोर्स की अवधि 3 महीने से 6 महीने तक की है।

  4. किसी किसी कॉलेज में 2 साल तक की अवधि का कोर्स भी कराते हैं।


Q : सिलाई की दुकान कैसे खोले?

Ans : टेलरिंग का बिजनेस कैसे शुरु हो सकता है?

  1. एक दूकान का इंतजाम करना (बड़ा कमरा या हाल) मार्केट में हो तो बेहतर

  2. एक साइन बोर्ड बनवाना

  3. कम से कम 5 बड़ी आलमारी बनवाना

  4. 20 बड़े हैंगर बनवाना

  5. एक काउंटर तैयार करवाना

  6. आवश्यकतानुसार सिलाई मशीन, रफू मशीन और कैंची रखना

  7. कपड़े सिलने के लिए अलग – अलग रंग के धागे रखना


Q : घर बैठे सिलाई का काम कैसे शुरू करें?

Ans : सिलाई का बिजनेस (Stitching Job Work From Home) शुरू करने के लिए आपको सबसे पहले एक सिलाई मशीन खरीद लेनी है और इसके बाद सिलाई करने का प्रशिक्षण प्राप्त करना है। आपको सिलाई के प्रशिक्षण के समय अलग-अलग प्रकार की एवं अलग-अलग डिजाइन के कपड़े बनाना सीखना चाहिए।


Q : क्या सिलाई व्यवसाय लाभदायक है?

Ans : बहुत ही अधिक लाभदायक है। सिलाई का बिजनेस एक सदाबाहार बिजनेस है। इस बिजनेस में कभी मंदी नहीं आ सकती है।



Q : क्या सिलाई व्यवसाय आरंभ करने के लिए लाइसेंस और पंजीकरण की आवश्यकता होती है?

Ans : छोटे स्तर पर सिलाई का बिजनेस करने के लिए किसी प्रकार का कोई पंजीकरण करने की जरुरत नहीं होती है। हां बड़े लेवल पर बिजनेस करने के लिए जरुर जिला उद्योग केन्द्र में पंजीकरण की आवश्यकता होती है।


Q : क्या रेडीमेड कपड़े सिलाई कराने से ज्यादा सस्ते पड़ते हैं?

Ans : बिल्कुल नहीं। एक कहावत है कि सस्ता रोये बार – बार और महंगा होये सिर्फ एक बार।


Q : क्या सिलाई सीखना बहुत मुश्किल काम है?

Ans : ऐसा कुछ भी नहीं है। एक साध्य है। रेगुलर अभ्यास करने से बहुत आसानी से सिलाई सीखा जा सकता है।


Q : क्या सिलाई का व्यवसाय एक अच्छा धन कमाने का जरिया बन सकता है?

Ans : टेलरिंग का बिजनेस धन कमाने का बहुत ही बढ़िया साधन है। सबसे बड़ी बात यह है कि इस बिजनेस में रेगुलर इनकम बनी रहती है।

Post a Comment

0 Comments